omr, sheet, fill

UPSC exam Preparation के लिए क्या होना चाहिए हमारा Solid Plan ?

UPSC exam Preparation; 4 अक्टूबर 2020 को देश का सबसे बड़ी प्रतियोगिता परीक्षा हुई है।

इस exam में पार्टिसिपेट करने वाले सभी छात्रों को आगामी जनवरी में होने वाली मेंस पेपर के लिए हमारी ढेर सारी शुभकामनाएं |


चलिएआज हम इस परीक्षा से जुडी कुछ रोचक बातें करते है साथ ही आपको UPSC exam Preparation से संबन्धित कुछ सामान्य ज्ञान कि बातें भी बताएँगे

1 महीने पहले आपकी क्या तकनीक होनी चाहिए इस परीक्षा के लिए वो भी जानेंगें|

UPSC exam Preparation; सिविल सेवा (UPSC) भारत में सबसे सम्मानित नौकरियों में से एक है।

जो इसमें सफल रहा उसका मान सम्मान देश का हर व्यक्ति करता है।

UPSC में उत्तरीन व्यक्ति के उपर समाज को सही तरीके से चलाने कि जिम्मेदारी होती है जिसे उसे बखूबी निभानी होती है|

UPSC एग्जाम को सफल करने के लिए एक छात्र अपने कई साल कि मेहनत देता है।

उसे अपना एक पूरा दिनचर्या बनाना पड़ता है |

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) संघ की विभिन्न सेवाओं और राज्य की सेवाओं के लिए उम्मीदवारों को सूचीबद्ध करने के लिए केंद्रीय भर्ती एजेंसी है।

आयोग की प्रमुख जिम्मेदारी अखिल भारतीय सेवाओं के लिए उम्मीदवारों की जांच करना है जिसमें तीन प्रतिष्ठित सेवाएं शामिल हैं – भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय विदेश सेवा (IFS)।

हर साल, आयोग सभी परीक्षाओं के लिए यूपीएससी कैलेंडर जारी करता है।

उम्मीदवार जो केंद्रीय सेवाओं के इच्छुक हैं, वे अधिसूचना जारी होने से पहले यूपीएससी परीक्षा तिथियों की जांच कर सकते हैं।

केंद्रीय भर्ती एजेंसी यूपीएससी टाइम टेबल भी जारी करती है जिसमें अधिसूचना की तारीख, आवेदन प्राप्त करने की अंतिम तिथि, परीक्षा शुरू होने की तिथि और परीक्षा की अवधि शामिल होती है।

UPSC exam Preparation; आइये जानते है इसके इतिहास के बारे में –

UPSC Exam का इतिहास

UPSC का इतिहास बहुत पुराना है इसे इंडियन सिविल सर्विसेज एक्ट 1861 के तहत भारतीय सिविल सेवा का गठन किया गया था।

लेकिन अंग्रेजों ने इसके मायने बदल दिए इस परीक्षा का लाभ भी अंग्रेज खुद से जुड़े लोगो को देते गए जिससे उनका फायदा मिले।

सुभाष चंद्र बोस ने 23 अप्रैल, 1921 को इंग्लैंड में एक भारत सिविल सेवक के रूप में अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया और भारत वापस आ गए।

ये परीक्षा इंग्लैंड में होता था, जिसका फायदा भारतीयों को नहीं मिल पता था।

लेकिन 1 अक्टूबर 1926 से इसमें बदलाव आये और परीक्षा भारत में होना शुरू हुआ |

जून 1863 में पहली बार सत्येंद्रनाथ चुने गए फिर वह ट्रेनिंग के लिए लंदन गए और नवंबर 1864 में वापस आए।

तब उन्होंने यंहा 1865 में अहमदाबाद के सहायक मैजिस्ट्रेट और कलेक्टर के पद पर काम शुरू किया।
भारत में जब इस परीक्षा का आयोजन होने लगा तब सबसे पहले IAS अधिकारी अन्ना राजम मल्होत्रा बनी।

​​ वह भारत की पहली महिला अधिकारी भी थीं।

READ IT ALSO: Does Lock-In period allow withdraw of money from PPF account before maturity?

UPSC Exam का सिलेबस


UPSC परीक्षाओं का एक बहुत बड़ा सिलेबस होता है।

यह अत्यंत विविध है और किसी भी बेकग्राउंड के छात्र द्वारा इसकी तैयारी कि जा सकती है।

इसमें विभिन्न विषयों जैसे इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीति, अंतर्राष्ट्रीय संबंध, सार्वजनिक प्रशासन, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भाषा, करंट अफेयर्स आदि शामिल हैं।

यूपीएससी के सिलेबस में कुछ विषयों को समझने में छात्रों को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसके लिए उनके पास कोई शैक्षणिक पृष्ठभूमि नहीं है ।

(जैसे: तकनीकी छात्रों के लिए प्रारंभिक चरण में अर्थव्यवस्था और राजनीति विषय कठिन होंगे)।

लेकिन अगर वे दृढ़ हैं, तो कड़ी मेहनत और समर्पित प्रयास से, वे इसे समझने में सक्षम होंगे।

एक बार जब कोई उम्मीदवार परीक्षा की प्रकृति को समझ जाता है, तो वो किसी भी कोचिंग संस्थानों में शामिल हुए बिना अपनी तैयारी कर सकते हैं।

हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि चयनित उम्मीदवारों में से 95% से अधिक ने कोचिंग को चुना था।

कोचिंग ने उन्हें अपनी तैयारी का मार्गदर्शन करने में मदद की और समय का अनुकूलन किया।

क्योंकि इस exam का पाठ्यक्रम बहुत बड़ा है और 1 वर्ष में ही इसे पूरा करने की आवश्यकता है।

Solid Plan for UPSC Exam Preparation

UPSC EXAM PREPARATION
UPSC EXAM PREPARATION

चरण 1 – पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करें

गहन IAS तैयारी शुरू करने से पहले, छात्रों को UPSC प्रश्न पत्र की प्रकृति को समझना जरूरी हैं।

इस के लिए पिछले वर्ष के UPSC प्रश्न पत्र को हल करने की सलाह दी जाती है।

तो, इसके लिए उम्मीदवारों को यूपीएससी के 5 से 10 साल के प्रश्न पत्रों को हल करना होगा।

चरण 2 – उचित अध्ययन योजना

बिना कोचिंग के IAS परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों के पास उचित अध्ययन योजना होनी चाहिए।

उनके पास 1 साल के लिए दीर्घकालिक योजना और साप्ताहिक और दैनिक अध्ययन योजनाओं की अल्पकालिक योजना होनी चाहिए।

UPSC परीक्षा को क्रैक करने के लिए, चाहे वह कोचिंग के साथ या उसके बिना, तैयारी कर रहे छात्र के पास उसकी खुद की अध्ययन योजना होनी चाहिए।

चरण 3 – नियमित उत्तर लेखन

छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे अपने उत्तर लेखन कौशल में सुधार के लिए दैनिक एक या दो उत्तर लिखें ।

साथ ही छात्र अपनी स्मृति कौशल को भी सुधारें।

खासकर, बिना कोचिंग के तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को बिना उत्तर दिए उत्तर लिखने का अभ्यास करना चाहिए।

चरण 4 – नियमित नोट बनाना

छात्रों को यूपीएससी प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा से पहले त्वरित संशोधन के लिए सरल नोट बनाने की आदत विकसित करनी चाहिए।

एक बार जब उम्मीदवार अपने स्वयं के नोट्स बनाते हैं तो यह छात्र के प्रदर्शन में सुधार करेगा।

चरण 5 – करंट अफेयर्स तैयारी

बिना कोचिंग के तैयारी करने वाले छात्रों को रोज अखबार पढ़ने की सलाह दी जाती हैं।

छात्रों को अखबार पढ़ने के साथ नोट्स बनाने की आदत भी होनी चाहिए।

समाचार विश्लेषण के लिए, छात्रों को दैनिक अखिल भारतीय रेडियो (AIR) समाचार विश्लेषण, लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी बहस का पालन करने की सलाह दी जाती है।

इस तरह के विश्लेषण से करंट अफेयर्स विषयों पर गहराई से ज्ञान मिलेगा।

चरण 6 – परफॉर्मेंस एनालिसिस

उम्मीदवारों को अपने अध्ययन की तैयारी का समय-समय पर विश्लेषण करना चाहिए।

उनके प्रदर्शन का विश्लेषण करने के लिए छात्र अपने अभ्यास के प्रीलिम्स और मुख्य प्रश्न पत्र बाजार से प्राप्त कर सकते हैं।

उस प्रश्न पत्र को हल करना शुरू कर सकते हैं, जिससे वे अपना आकलन आसानी से कर सकते हैं।

यह उन्हें समझने में मदद करेगा कि उनका तैयारी स्तर कहां हैं।

इस पर आधारित छात्र अपनी ताकत और कमजोरी का विश्लेषण कर सकते हैं।

प्रारंभ में, छात्रों को प्रश्न हल करने में कठिनाई होगी लेकिन समय बढ़ने के साथ छात्रों का प्रदर्शन भी बढ़ेगा।

यूपीएससी आईएएस परीक्षा एक प्रतियोगिता परीक्षा हैं, जहाँ बड़े से बड़ा कोचिंग केवल आपका मार्गदर्शन कर सकते हैं।

लेकिन, आखिरकार यह एक छात्र की तैयारी की रणनीति पर निर्भर करता है।

यदि उम्मीदवार स्वभाव से दृढ़ संकल्पित और मेहनती है, तो वह बिना किसी कोचिंग के इस परीक्षा को निश्चित रूप से क्रैक करेगा।

आखरी समय में UPSC Exam कि तैयारी कैसी होनी चाहिए

UPSC EXAM PREPARATION
UPSC EXAM PREPARATION

आपको अपना टाइम टेबल सही तरीके से सेट करना होगा जिसमे आप पढाई के साथ साथ अन्य कार्य कर सके।

आपको exam preparation के समय तनाव मुक्त रहना चाहिए |

स्टूडेंट्स को NCRT बुक्स जरुर पढ़नी चाहिए ये आपका बेस तैयार करती है |

अब क्यूंकि ज्यादा समय नहीं है परीक्षा में इसलिए आपको ज्यादा से ज्यादा टेस्ट देने चाहिए।

जिससे आपको आपके सब्जेक्ट में कमजोरियों का पता चलेगा और समय रहते आप उसे सही कर पायेंगें |

आपको इस समय अपने नोट्स जरुर पढ़ने चाहिए इससे जो आपको आता है उसे अच्छे से रिवाइज्ड कर पायेंगे |

अब यह समय कुछ भी नया सीखने या पढ़ने का नहीं है।

इस समय बस खुद पड़ यकीन रखें और ज्यादा से ज्यादा रिवीजन करें |

READ IT ALSO : Indian Automobile Industry Scope and Analysis 

अगर आप कोई भी जानकारी हमसे प्राप्त करना चाहते है तो हमे comment बॉक्स में लिखे।

या डायरेक्ट हमारी mail id ([email protected])पर हमे mail करें आपकी सहायता करके हमे अधिक ख़ुशी मिलेगी|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *